क्या दिल की रुकावट को दूर करने के लिए कोई दवा है?

दिल की रुकावट क्या है।

जब कफ हृदय में स्थित धमनियों की दीवारों में जमा हो जाता है, तो इससे उत्पन्न होने वाले विकार को हार्ट ब्लॉकेज कहा जाता है। आधुनिक रहन-सहन और खान-पान की आदतों के कारण ज्यादातर लोगों में हार्ट ब्लॉकेज की समस्या आम होती जा रही है। हार्ट ब्लॉकेज भी जन्मजात है। जन्मजात हार्ट ब्लॉकेज जन्मजात ब्लॉकेज की समस्या है। बाद की समस्या को अधिग्रहीत हार्ट ब्लॉकेज कहा जाता है।

 

दिल में रुकावट के कारण

 

ब्लॉक कोलेस्ट्रॉल, वसा, फाइबर ऊतक और सफेद रक्त कोशिकाओं का मिश्रण है। यह मिश्रण धीरे-धीरे नसों की दीवारों से चिपक जाता है। इससे हार्ट ब्लॉक होता है। दिल में ब्लॉक दो प्रकार का होता है। जब यह मोटा और कठोर होता है, तो ऐसे ब्लॉक को स्टैटिक ब्लॉक कहा जाता है। जब यह नरम होता है तो इसे टूटना माना जाता है। इसे अस्थिर ब्लॉक कहा जाता है।

 

ये हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण हैं।

 

  • बार-बार सिरदर्द होना
  • चक्कर आना या बेहोशी
  • छाती में दर्द
  • सांस फूलना
  • छोटी सांस
  • काम में थकान महसूस होगी
  • थक जाना
  • बेहोश करने के लिए
  • गर्दन, ऊपरी पेट, जबड़े, गले या पीठ में दर्द
  • आपके पैरों या हाथों में दर्द या सुन्नता
  • कमजोरी या ठंड।

 

दिल के दौरा की आयर्वेदिक दवा।

 

  • दिव्य अर्जुन कांथ
  • दिव्य हृदयमृत
  • दिव्य संगेयशव पिष्टी
  • दिव्य अकीक पिष्टी
  • दिव्य मुक्ता पिष्टी
  • योगेंद्र रस

हार्ट अटैक से बचाव के घरेलू उपाय

 

  • खाने में दही का सेवन करें
  • दिल को मजबूत बनाने के लिए देसी घी में गुड़ मिलाकर खाएं।
  • रोजाना पानी में नींबू का रस मिलाकर पिएं
  • फलों में अमरूद, अनानास, चूना, लीची और सेब का प्रयोग करें
  • सब्जियों में अरबी और अमरूद खाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *