गर्भनिरोधक गोली लेने वाली किशोरियों में डिप्रेशन का अधिक खतरा : रीसर्च

डिप्रेशन हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण भावना है, जहर जो हमारे दैनिक जीवन में कई तरह की समस्याओं के लिए हमारे शरीर द्वारा की जाने वाली एक जैविक गतिविधि है जिसे हम तनाव कहते हैं जो आमतौर पर थोड़े समय के लिए सभी में पाया जाता है लेकिन लंबा होता है। अगर यह समय के लिए किसी समस्या के कारण हमारी आदत में शामिल हो जाता है, तो यह हमारे लिए जानलेवा हो सकता है, आज हम इसके बारे में जानकारी केवल यहां साझा कर सकते हैं। हम इस बारे में बात कर रहे हैं कि डिप्रेशन के लक्षण क्या हैं और ऐसा क्यों होता है और इसे कैसे दूर किया जा सकता है, तो चलिए इसके बारे में बात करते हैं।

 

अध्ययनों के अनुसार,

एक नई स्टडी से पता चला है कि गर्भनिरोधक गोली लेने वाले किशोरों में अवसाद से जुड़े लक्षणों का खतरा अधिक होता है। बता दें कि 1962 में जब से ब्रिटेन में यह गोली उपलब्ध हुई है, तब से शोधकर्ता मौखिक जन्म नियंत्रण और मनोदशा के बीच संबंधों को समझने की कोशिश कर रहे हैं।

अध्ययन ब्रिघम और महिला अस्पताल, यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर ग्रोनिंगन और लीडेन यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर द्वारा आयोजित किया गया था। इससे पहले, इन संस्थानों द्वारा स्तन कैंसर, रक्त के थक्कों, वजन बढ़ाने पर शोध किया गया है।

जेएएमए मनोरोग पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, शोधकर्ताओं ने अध्ययन में 16 से 25 वर्ष की उम्र के बीच की लड़कियों को शामिल किया। शोधकर्ताओं ने तब कहा कि गर्भनिरोधक गोली लेने वाले किशोरों में अन्य लोगों की तुलना में अधिक अवसाद संबंधी लक्षण दिखाई दिए।

शोध में यह भी पाया गया कि 16 वर्षीय लड़कियों में अवसाद के लक्षण अधिक थे। अवसाद के लक्षणों पर किए गए सर्वेक्षण में रोने, सोने, खाने, आत्महत्या करने, उदासी आदि की समस्याएं सामने आईं।

 

 

डिप्रेशन के कारण।

 

काम का बोझ बढ़ाना

 

जैसे-जैसे आप कंपनी में पुराने होते जाते हैं, कंपनी की उम्मीदें आपसे ज्यादा होने लगती हैं। जिसके कारण काम का बोझ बढ़ने लगता है और धीरे-धीरे वे तनाव का कारण बन जाते हैं।

 

पोषक तत्वों की कमी भी अवसाद का कारण बन सकती है।

 

कुछ पोषक तत्वों की कमी से मैग्नीशियम, लोहा, विटामिन डी, फोलेट, एमिनो एसिड और जस्ता जैसे अवसाद का खतरा हो सकता है।

 

काम के दौरान तनाव

 

कार्यालय में काम का बोझ तनाव का कारण बन सकता है, जो काम को प्रभावित करता है।

 

 

डिप्रेशन के लक्षण।

 

 

1. नींद की आदत में बदलाव

 

2. बहुत संवेदनशील हो गए

 

3. दुनिया से कटाव

 

4. आदतों में बदलाव

 

5. भयानक सरदर्द

 

6. पाचन असंतुलन

 

7. लोगों से मिलने में असहज महसूस करते हैं

 

8. इंटरनेट का उपयोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *